विवाह पद्धति गीता प्रेस गोरखपुर PDF Free Download – वैदिक विवाह पद्धति PDF

विवाह पद्धति गीता प्रेस गोरखपुर PDF Free Download – इस लेख में आपको Vivah Paddhati PDF मिलेगा, और अन्य जानकारी विवाह पद्धति गीता प्रेस के बारे में और बात करेंगे भारतीय संस्कृति को कैसे टीकाकर रख सकते है

ये भी पढ़े:- ITI Ka Full Form

विवाह पद्धति गीता प्रेस pdf free download
वैदिक विवाह पद्धति PDF Download

विवाह पद्धति गीता प्रेस गोरखपुर PDF Free Download – विवाह पद्धति गीता प्रेस

सनातन धर्म में विवाह को गृहस्थ आश्रम माना जाता है, सनातन धर्म में इंसान के 4 जीवन बाताये गए है ब्रम्हचर्य आश्रम, गृहस्थ आश्रम, सन्यास आश्रम, वान्प्रस्थ आश्रम

विवाह संस्कार का महत्व

विवाह दो आत्माओ का बंधन है, इसका उद्देश्य सिर्फ इन्द्रिय-सुखभोग नहीं बल्कि पुत्रोपदान है, संतानोत्पादान कर एक सम्पूर्ण परिवार बनता है, सोलह संस्कार में से एक है विवाह संस्कार, इसलिए गृहस्थ आश्रम में विवाह संस्कार लेना जरुरी है विवाह पद्धति गीता प्रेस गोरखपुर PDF Free Download

पहला वचनः . तीर्थव्रतोद्यापन यज्ञकर्म मया सहैव प्रियवयं कुर्या, वामांगमायामि तदा त्वदीयं ब्रवीति वाक्यं प्रथमं कुमारी.

भारतीय संस्कृति क्यों है खतरे में

दैनिक व्यवहार में हम छोटे छोटे से लेकर बड़े से बड़े जो काम करते हैं उसमें हमें इतनी ज्यादा नकल दिखाई देती है पश्चिम की, बहुत खराब लगता है, दिल को कोफ्त होती है, बहुत चोट लगती है दिल को, जैसे मैं एक उदाहरण  बताता हु, हमारे दैनिक जीवन में जो  नियमित होने वाली घटनाओं में एक महत्वपूर्ण घटना है विवाह पद्धति गीता प्रेस गोरखपुर PDF Free Download

वह घटना है विवाह, हमारे यहा विवाह होता है, शादी होती है, बहुत सारे विवाह शादियों वैदिक पद्धति से होते हैं, और बहुत सारे विवाह और शादीया पौराणिक पद्धति से होते है, इसमें जो सबसे खराब बात दिखाई देती है वह, पश्चिम की नक़ल है जो लोग ब्रास बैंड बजाते हैं बारात में वह पूरी पश्चिमी भाग की नकल है, अंग्रेजो की स्कॉटिश, आयरिश, यूरोपियन लोगो की। विवाह पद्धति गीता प्रेस pdf free download

विवाह पद्धति गीता प्रेस pdf free download
वैदिक विवाह पद्धति PDF Download

यूनिक बिजनेस आइडियाज इन हिंदी

इन जैसे पश्चिमी देशों में यह परंपरा है, ब्रास बैंड बजाना गलत इसलिए है की, ब्रास बैंड दुश्मनों पर हमला बोलने के वक्त बजाया जाता था
यह इन देशों में इसलिए बजाते थे क्युकी सैनिकों को जोश चढ़े युद्ध के दौरान और सैनिक डट कर सामना कर पाए विरुद्ध सेना का (विवाह पद्धति गीता प्रेस गोरखपुर PDF Free Download)

और पिछले कुछ सालों में यह परंपरा भारत में आई है, शादियों में और बारातो में बजाते है, अगर हम पुराने समय पर भारत में किसी भी महान व्यक्ति के शादी की बात करे, तो एसा कही पर दिखाई नही देता था वैसे यह एक ही उदाहरण था, ऐसे कई सारे उदाहरण है पश्चिमी पद्धतियों की भारतीय शादियों में, इसलिए हम आपको vivah paddhati gita press बता रहे है। विवाह पद्धति गीता प्रेस pdf free download

Baba Vanga 2022 Predictions In Hindi

आजाकल पिज्जा, बर्गर, चाइनीज खाकर और पेप्सी कोला पीकर लोग अपना स्वास्थ्य खराब कर रहे हैं और ये खुद को आधुनिक तो घोषित करते है, लेकिन आप अनजाने में ही सही, लेकिन अपने स्वास्थ्य और संस्कृति को धोखा दे रहे हैं, पुराणे समय में एसा कूछ था नही इसलिये लोग स्वास्थ्य

और लंबा जीवन जिते थे भारतीय परंपरा को बचाए, ज्यादा से ज्यादा हिंदी बोलने का प्रयास करे और अपने बच्चों को अपने असपडोस मे अधिक से अधिक अपनी भाषा को बाढवा दिजिये ऑर भारतीय संस्कृती को अपनाए

विवाह पद्धति गीता प्रेस गोरखपुर PDF Free Download

सूचना – इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी पीडीएफ बुक, पीडीएफ फ़ाइल से इस वेबसाइट के मालिक का कोई संबंध नहीं है।

यह मात्र पाठको की सहायता के लिये इंटरनेट पर मौजूद ओपन सोर्स से लिया गया है। अगर किसी को इस वेबसाइट पर दिये गए किसी भी Pdf Books से कोई भी परेशानी हो तो हमें [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं, हम तुरंत ही उस पोस्ट को अपनी वेबसाइट से हटा देंगे। विवाह पद्धति गीता प्रेस pdf free download

इस लेख में आपने जाना विवाह पद्धति गीता प्रेस गोरखपुर PDF Free Download के बारे में और आपको दिया vivah paddhati pdf इस लेख में हो सकता है आपकी जानकारी पूरी न हो या तो आप कमेंट में पूछ सकते है या Wikipedia की मदत ले सकते है|

Leave a Comment